Friday, 20 April 2018

इग्नू के नव प्रवेशित विद्यार्थियों के परिचय समारोह का हुआ आयोजन


वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय परिसर स्थित इंदिरा गाँधी नेशनल  ओपन  यूनिवर्सिटी  अध्ययन केंद्र द्वारा नव प्रवेशित विद्यार्थियों के परिचय समारोह का आयोजन शुक्रवार को  किया गया।इस अवसर पर  अध्ययन केंद्र के समन्वयक डॉ आशुतोष कुमार सिंह ने सभी शिक्षार्थियों को इग्नू पाठ्यक्रम से संबंधित सत्रीय कार्य, काउंसलिंग एवं परीक्षा इत्यादि के बारे में विस्तार से जानकारी एवं परिचय पत्र वितरित किया।  इस अवसर पर उपस्थित मुख्य अतिथि प्रोफेसर मानस पांडे ने बताया कि इग्नू  के माध्यम से छात्र-छात्राएं अल्प अवधि के रोजगार एवं कौशल विकास के पाjansठ्यक्रम से अतिरिक्त ज्ञान अर्जित कर सकते हैं।  विशिष्ट अतिथि प्रोफेसर अविनाश पाथर्डीकर ने  इग्नू पाठ्यक्रम की उपयोगिता एवं प्रासंगिकता पर प्रकाश डालते हुए पाठ्यक्रमों के बारे में  जानकारी दी।  संचालन डॉ आशुतोष सिंह एवं धन्यवाद   डॉ ऋषिकेश ने दिया।

महामंडलेश्वर यतींद्रानंद गिरि विश्वविद्यालय परिसर में



विश्वविद्यालय परिसर में शुक्रवार को दशनाम जूना अखाड़ा के पूज्य संत महामंडलेश्वर स्वामी यतींद्रानंद  गिरि जी महाराज का आगमन  हुआ। कुलपति प्रो. डॉ. राजाराम यादव ने उनका स्वागत अपने आवास पर माल्यार्पण कर किया। इस अवसर पर उपस्थित विश्वविद्यालय के शिक्षकों एवं कर्मचारियों को संबोधित करते हुए स्वामी यतींद्रानंद  गिरि ने कहा कि धर्म  और जाति आधारित राजनीति से देश को बहुत नुकसान हुआ है। आज इसे रोकने की जरूरत है।  इस अवसरवादी विचारों से उपर उठकर  मजबूत राष्ट्र के निर्माण में हमे अपनी सक्रिय भूमिका का निर्वहन करना होगा। आज राष्ट्रवाद  पर हमें काम करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि ऐसे संवेदनशील मुद्दों पर  देश की  सियासत और खासतौर पर  इलेक्ट्रानिक मीडिया हमें आपस में जातियों के नाम पर बांटनें का काम कर रही है। दूरगामी परिणाम से अनभिज्ञ हम आपस में ही संघर्षरत हैं। अब  यह बातें बंद होनी चाहिए। देश का सम्मान आपसी एकजुटता में है। उन्होंने कहा कि आज  ब्रिटेन एवं उनकी  महारानी ने भी  भारत के विराट अस्तित्व  को समझा है, जिससे   विश्व में देश का और प्रधानमंत्री जी का  गौरव बढ़ा  है।  इस अवसर पर प्रो. बीबी  तिवारी, कुलसचिव सुजीत कुमार जायसवाल , वित्त अधिकारी एमके सिंह ,परीक्षा नियंत्रक संजीव कुमार सिंह, डॉ संतोष कुमार,डॉ मनोज मिश्र,डॉ राजकुमार सोनी , डॉ के एस तोमर, डॉ संजय श्रीवास्तव, डॉ. पुनीत धवन सहित लोग उपस्थित रहे। 

Saturday, 14 April 2018

भारत रत्न बाबा साहेब भीमराव रामजी आंबेडकर की जयंती के उपलक्ष्य में गोष्ठी आयोजित



विश्वविद्यालय के विश्वेश्वरैया सभागार में भारत रत्न बाबा साहेब भीमराव रामजी आंबेडकर  की जयंती के  उपलक्ष्य में  शनिवार  को  आयोजित गोष्ठी में वक्ताओं ने बाबा साहेब  के समग्र व्यक्तित्व पर विचार मंथन किया।
गोष्ठी की अध्यक्षता करते हुए कुलपति प्रोफ़ेसर डॉ राजाराम यादव ने कहा कि जो समस्त में व्याप्त होता है समाज में वही पूजनीय होता है। बाबा साहेब ने समाज से कुरीतियों को हटाने का अमृत कार्य किया है। जब तक यह धरती रहेगी बाबा साहेब अमर  रहेंगे। उन्होंने कहा कि  भगवान श्रीकृष्ण ने कहा है  कि  जब- जब समाज में कुरीतियां आएगी तब- तब मेरा अवतरण होगा। इस रूप में बाबा साहेब देवदूत थे। उन्होंने कहा कि  बाबा साहेब के गुरुजन ब्राह्मण थे। गुरुदक्षिणा में बाबा साहेब ने अपने ब्राह्मण गुरु का उपनाम अपने साथ जोड़ कर गुरु शिष्य परम्परा को एक नई ऊंचाई दी है। वे अत्यंत लोकप्रिय विधिवेत्ता, अर्थशास्त्री, राजनीतिज्ञ और समाजसुधारक थे। उन्होंने कहा कि बाबा साहेब ने सामाजिक भेद भाव के विरुद्ध अभियान चलाया। श्रमिकों और महिलाओं के अधिकारों का समर्थन किया।बाबा साहेब का मानना  था कि  भारत का प्राचीन ज्ञान -विज्ञान  जब  तक पुनःप्रस्फुटित नहीं होगा तब तक विश्व का कल्याण संभव नहीं है। आपने  भारत को विखंडित नहीं होने दिया और न ही आप अंग्रेजों के झांसे  में आये। देश की एकता और अखंडता को बरकरार रखने के लिए  यह राष्ट्र सदैव बाबा साहेब का  कृतज्ञ रहेगा। 


कार्यक्रम के  पूर्व भारत रत्न बाबा साहेब भीमराव रामजी आंबेडकर के चित्र पर उपस्थित सभी लोगों ने माल्यार्पण एवं श्रद्धासुमन अर्पित किया।    बाबा साहेब के समग्र व्यक्तित्व को रेखांकित करते हुए  प्रो. वीडी शर्मा ,प्रो. अजय द्विवेदी ,डॉ संतोष कुमार, डॉ मनोज मिश्र ,डॉ राज कुमार ,डॉ इंद्रेश गंगवार ,डॉ करुणा और विशाल चौबे ने भी गोष्ठी को सम्बोधित किया। उपस्थित सभी का स्वागत कार्यक्रम संयोजक शीलनिधि सिंह ने किया। धन्यवाद ज्ञापन डॉ संजय श्रीवास्तव एवं संचालन श्यामल श्रीवास्तव द्वारा  किया गया । इस अवसर पर डॉ अमरेंद्र सिंह ,डॉ राजीव कुमार ,डॉ विद्युत् मल्ल ,अनिल श्रीवास्तव सहित विद्यार्थी मौजूद रहे। 

Tuesday, 10 April 2018

राष्ट्रीय प्रवक्ता भाजपा प्रेम शुक्ल ने की कुलपति प्रोफ़ेसर डॉ राजाराम यादव से मुलाकात -विश्वविद्यालय के विकास को लेकर की बात

                       


 विश्वविद्यालय  में मंगलवार को वरिष्ठ पत्रकार एवं भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता प्रेम शुक्ल एवं  दिव्य प्रेम सेवा मिशन हरिद्वार के अध्यक्ष आशीष गौतम ने कुलपति प्रोफ़ेसर डॉ राजाराम यादव से मुलाकात कर विश्वविद्यालय की वर्तमान  एवं भविष्यगत योजनाओं पर चर्चा की। कुलपति प्रोफ़ेसर डॉ राजाराम यादव ने बताया कि विश्वविद्यालय की स्थापना को 30 वर्ष हो गए हैं। इन वर्षों  में  विश्वविद्यालय ने शिक्षा, शोध, शैक्षणिक एवं पराशैक्षणिक क्षेत्र में उल्लेखनीय उपलब्धिया अर्जित की है।  विश्वविद्यालय को वर्ष 2016 में नैक द्वारा बी प्लस ग्रेड प्रदान किया गया है। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के पोर्टल शोधगंगा पर विश्वविद्यालय का देश में तीसरा स्थान है। विश्वविद्यालय के समस्त शोध ग्रन्थ  डिजिटल रूप में पढ़े जा सकते है। विश्वविद्यालय द्वारा प्रोफेसर राजेंद्र सिंह (रज्जू भैया) भौतिक विज्ञान संस्थान , अशोक सिंघल भारतीय परंपरागत विज्ञान शोध संस्थान,गो विज्ञान अनुसंधान केंद्र एवं गोरक्षनाथ आध्यात्मिक विज्ञान एवं योग केंद्र की शीघ्र स्थापना आने वाले सत्र  से की जा रही है। उन्होंने कहा कि    देश में सबसे अधिक राष्ट्रीय सेवा योजना के स्वयं सेवक इस विश्वविद्यालय के विद्यार्थी हैं, जिनकी संख्या 60 हजार है। विश्वविद्यालय को राष्ट्रीय क्षितिज पर स्थापित करने हेतु इसी सत्र  में  वस्तु एवं सेवा कर, ग्रोथ ऑफ साइंस एन्ड टेक्नालाजी इन  कैम्पस ऑफ यूनिवर्सिटी एवं  विश्वविद्यालय में शिक्षा पद्धति विषयक राष्ट्रीय संगोष्ठी का  गया। जिस  में देश के जाने -माने 200 से अधिक शिक्षाविद ,वैज्ञानिक एवं सामाजिक सक्रियक  ने प्रतिभाग कर विश्वविद्यालय को एक नई ऊंचाई दी है ।  उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय   के तीस वर्षों के इतिहास में पहली बार  प्लेसमेन्ट सेल  के  प्रयास से  देश के प्रमुख औद्योगिक संस्थानों ने  विश्वविद्यालय के  विद्यार्थियों को कैम्पस सेलेक्शन में चयनित किया है जो हम सभी के लिए नई ऊर्जा का संचार करेगा । विश्वविद्यालय परिसर में स्नातक स्तर पर इंजीनियरिंग की छः शाखाओं इलेक्ट्रिक इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रानिक्स एंड कम्युनिकेशन इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रानिक्स एंड इन्स्ट्रूमेंटेशन इंजीनियरिंग, कम्प्यूटर सांइस एंड इंजीनियरिंग, इनफॉरमेशन टेक्नोलॉजी, मैकेनिकल इंजीनियरिंग तथा बी-फार्मा की शिक्षा दी जा रही है। इसके अतिरिक्त स्नातकोत्तर स्तर पर एम.सी.ए., एम.बी.ए., एम.बी.ए बी.ई., एग्रीबिजनेस, ई-कामर्स, एम.बी.ए0 एफ.सी., एम.बी.ए. एच.आर.डी., एम.ए. मास कम्युनिकेशन, व्यावहारिक मनोविज्ञान, एम.एस.सी. बायोटेक्नॉलाजी, पर्यावरण विज्ञान, अप्लायड माइक्रो बायोलॉजी, अप्लायड बायोकेमेस्ट्री विषयों की शिक्षा प्रदान की जाती है।  कुलपति प्रोफ़ेसर डॉ राजाराम यादव ने  प्रेम शुक्ल  एवं  आशीष गौतम को अंगवस्त्रम तथा उत्तर -प्रदेश के  श्री  राज्यपाल राम नाईक की कृति चरैवेति -चरैवेति भेंट की। इस अवसर पर दिव्य प्रेम सेवा मिशन हरिद्वार के  संयोजक संजय चतुर्वेदी भी उपस्थित रहे।