Wednesday, 21 October 2020

सोशल एकाउंट को स्ट्रांग बनाएं महिलाएं : डॉ. अर्चना शिवहरे

वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय में मिशन शक्ति अभियान के अंतर्गत कुलपति निर्मला एस मौर्य के अभिप्रेरणा से साइबर सुरक्षा एवं लैंगिक हिंसा पर ऑनलाइन कार्यशाला का आयोजन किया गया।
मुख्य वक्ता के रूप में डॉ. अर्चना शिवहरे पुलिस महानिरीक्षक राज्य अपराध रिकार्ड ब्यूरो गांधीनगर ने जुड़कर सभी शिक्षकों एवं छात्रों को साइबर सुरक्षा एवम् लैंगिक हिंसा के संबंध में विस्तृत जानकारी दिया।

%25E0%25A4%25B8%25E0%25A5%258B%25E0%25A4%25B6%25E0%25A4%25B2%2B%25E0%25A4%258F%25E0%25A4%2595%25E0%25A4%25BE%25E0%25A4%2589%25E0%25A4%2582%25E0%25A4%259F%2B%25E0%25A4%2595%25E0%25A5%258B%2B%25E0%25A4%25B8%25E0%25A5%258D%25E0%25A4%259F%25E0%25A5%258D%25E0%25A4%25B0%25E0%25A4%25BE%25E0%25A4%2582%25E0%25A4%2597%2B%25E0%25A4%25AC%25E0%25A4%25A8%25E0%25A4%25BE%25E0%25A4%258F%25E0%25A4%2582%2B%25E0%25A4%25AE%25E0%25A4%25B9%25E0%25A4%25BF%25E0%25A4%25B2%25E0%25A4%25BE%25E0%25A4%258F%25E0%25A4%2582%2B%2B%25E0%25A4%25A1%25E0%25A5%2589.%2B%25E0%25A4%2585%25E0%25A4%25B0%25E0%25A5%258D%25E0%25A4%259A%25E0%25A4%25A8%25E0%25A4%25BE%2B%25E0%25A4%25B6%25E0%25A4%25BF%25E0%25A4%25B5%25E0%25A4%25B9%25E0%25A4%25B0%25E0%25A5%2587%2B%2B%2523NayaSaberaNetwork

उन्होंने कहा कि महिला एवं बच्चों को विशेष सावधानी बरतनी होगी क्योंकि वेबसाइट से उनकी फोटो लेकर इंटरनेट पर दुरुपयोग किया जा सकता है जो कि साइबर क्राइम के अंतर्गत आता है ऐसे में महिलाओं को अपने अकाउंट का पासवर्ड बहुत स्ट्रांग बनाना चाहिए नाम जन्मदिन आदि का पासवर्ड नहीं बनाना चाहिए। अलग—अलग एकाउंट का पासवर्ड अलग—अलग बनाना चाहिए, अपने क्रेडिट कार्ड का नंबर किसी को शेयर नहीं करना चाहिए। पब्लिक डोमेन में अपने मोबाइल का ब्लूटूथ या वाईफाई ऑन नहीं रखना चाहिए एवं सोशल मीडिया पर अपना लोकेशन शेयर नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे उसका पूरा डाटा हैक किया जा सकता है।

उन्होंने यह भी बताया कि यदि किसी भी तरह का अत्याचार महिलाओं पर हो रहा है तो उसे इसके लिए कानूनी मदद लेनी चाहिए और साथ ही साथ इस बात पर असंतोष जताया कि जितने अपराध महिलाओं के साथ हो रहे हैं उतनी शिकायतें प्रकाश में नहीं आती है, इसके लिए महिलाओं को स्वयं से आवाज उठाना होगा जागरूक होना होगा और अत्याचार को सहन नहीं करना होगा क्योंकि उत्तर प्रदेश सरकार महिलाओं के सम्मान सुरक्षा के लिए सराहनीय प्रयास कर रही है। साइबर क्राइम के अपराधियों को पकड़ना चुनौतीपूर्ण है। अतः स्वयं से जागरूक रहना होगा। 

विशिष्ट अतिथि डॉ. पूनम तिवारी सचिव नारी शक्ति संस्थान आजमगढ़ ने कहा कि नारी के प्रति हो रहे अत्याचार एक सामाजिक बीमारी है अतः सरकार की पहल मिशन शक्ति एक सराहनीय कदम है।

मुख्य अतिथि डॉ. अंजू सिंह सचिव ठाकुरबाड़ी महिला विकास कल्याण समिति सिंगरामऊ ने कहा कि मां शक्ति की असली पूछा तब मानी जाएगी जब प्रत्येक महिला स्वयं को सुरक्षित महसूस करेगी। इसके लिए इस तरह के जागरूकता अभियान चलाने की आवश्यकता है। गांव में जाकर नाटक रंगमंच लघुकथाएं आदि के माध्यम से भी जागरूक किया जा सकता है।

मुख्य अतिथि का स्वागत जया शुक्ला मुख्य वक्ता का स्वागत डॉ. वनिता सिंह, विशिष्ट अतिथि का स्वागत डॉ. झांसी मिश्रा, संचालन कार्यक्रम समन्वयक मिशन शक्ति डॉ. जान्हवी श्रीवास्तव तथा आभार ज्ञापन डॉ. राकेश यादव एनएसएस कार्यक्रम समन्वयक द्वारा किया गया।

कार्यक्रम में सहयोग आयोजक मंडल डॉ. प्रियंका, डॉ. जगदेव, डॉ. नीतीश, श्रीमती करुणा, अनामिका, डॉ. धीरेंद्र चौधरी, डॉ. शशिकांत, अवनीश ने किया। कार्यक्रम में सहभागिता प्रोफेसर मानस पांडेय, प्रोफ़ेसर देवराज, प्रोफेसर राम नारायण, डॉ. मनोज मिश्रा, डॉ. राजकुमार सोनी, डॉ. दिग्विजय सिंह राठौर , डॉ. सुनील, डॉ. चंदन , नूपुर तिवारी, आकांक्षा श्रीवास्तव आदि ने किया।

Tuesday, 20 October 2020

बच्चों में सीख विकसित करने में शिक्षक की अहम भूमिका: प्रो. रामजी लाल

वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय में मिशन शक्ति महिलाओं एवं बालिकाओं की सुरक्षा एवं सम्मान के लिए चलाया जाने वाले अभियान के तहत मंगलवार को शिक्षकों एवं विद्यार्थियों में बाल मनोविज्ञान की समझ विकसित करने संबंधी विषय पर वेबिनार  का आयोजन किया गया ।

बतौर मुख्य अतिथि प्रो.रामजी लाल श्रीवास्तव ने कहा कि बच्चों में सीख विकसित करने में शिक्षकों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। शिक्षक यदि उसके इमोशनल वेल बीइंग एवं इंटरपर्सनल रिलेशनशिप पर ध्यान दें कि  उस बच्चे में कैसा विकसित हो रहा है तो निश्चित ही वह आगे चलकर एक अच्छा नागरिक बनेगा जो समाज एवं राष्ट्र के दृष्टिकोण से भी हितकारी होगा। कार्यक्रम की मुख्य वक्ता डॉ .सलोनी प्रिया क्लिनिकल साइकोलॉजिस्ट ने कहा की जेंडर के प्रति भ्रांतियां खत्म करनी होंगी, क्योंकि समाज में जेंडर की प्रति बहुत सारी भ्रांतियां व्याप्त है । लड़की या लड़का होना उसकी पहचान हो सकती है उसका शीलगुण नहीं।  उन्होंने कहा कि इस तरह के अभियानों का निश्चित रूप से सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा।
मुख्य अतिथि का स्वागत डॉ. नीतेश जायसवाल और मुख्य वक्ता का स्वागत प्रो. अजय प्रताप सिंह ने किया। संचालन कार्यक्रम समन्यवक डॉ जान्हवी श्रीवास्तव ने और आभार ज्ञापन  रोवर्स रेंजर समन्वयक डा. जगदेव ने किया। कार्यक्रम में  प्रो. मानस पांडेय, प्रो देवराज , डॉ राजकुमार , एनएसएस समन्वयक राकेश यादव, डॉ. दिग्विजय सिंह राठौर, डॉ सुनील कुमार, श्रीमती अरूणा,‌ डॉ. विनीता सिंह, डॉ.झांसी मिश्रा, डॉ.जया शुक्ला समेत विभिन्न महाविद्यालयों के शिक्षक एवं छात्रों ने भी सहभागिता की।

Saturday, 17 October 2020

महिलाएं आत्मनिर्भर बनें: कुलपति

मिशन शक्ति मेगा लांच के अंतर्गत महिलाओं को किया गया जागरूक

वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय में मिशन शक्ति मेगा लांच कार्यक्रम का आयोजन शनिवार को ऑनलाइन किया गया। समारोह में बतौर मुख्य अतिथि कुलपति निर्मला एस. मौर्य ने कहा कि सरकार महिलाओं की सुरक्षा के प्रति काफी गंभीर है। देश में महिलाओं की आबादी लगभग 50 फ़ीसदी है, ऐसे में इस तरह की अभियान की आवश्यकता और बढ़ जाती है। उन्होंने आदिकाल और उत्तर मध्यकाल में नारी की स्थितियों पर विस्तृत चर्चा की। कहा कि 21वीं सदी में महिला अपनी अस्मिता की तलाश कर रही है उन्होंने आह्वान किया कि नारी आत्मनिर्भर बने, इसके लिए विश्वविद्यालय महिलाओं द्वारा बनाई गई हस्तकला, हस्तशिल्प की वस्तुओं के  विक्रय के लिए दुकान के रूप में प्लेटफार्म देगा। कार्यक्रम में क्लिनिकल साइकोलॉजिस्ट उषा वर्मा श्रीवास्तव ने कहा कि महिलाएं आर्थिक रूप से ही आत्मनिर्भर न बने बल्कि अपनी सोच को भी आत्मनिर्भर बनाना होगा । उन्होंने लैंगिक भेदभाव और घरेलू हिंसा आदि विषयों पर विस्तृत रूप से प्रकाश डाला। विशिष्ट अतिथि के रूप में डिप्टी एसपी प्रेम प्रकाश ने कहा कि संविधान और कानून में कहीं भी लड़कों और लड़कियों में किसी प्रकार का भेदभाव नहीं है। इसके लिए लोगों को जागरूक करने की जरूरत है। उन्होंने महिला सुरक्षा, साइबर सुरक्षा से संबंधित विभिन्न धाराओं के बारे में विस्तार से चर्चा करते हुए कहा कि महिलाओं को अन्याय के खिलाफ सतर्कता के साथ आवाज उठानी होगी। विशिष्ट अतिथि के रूप में एडवोकेट श्रीमती मंजू शास्त्री पास्को एक्ट, दहेज उत्पीड़न पर विस्तृत रूप से चर्चा करते हुए कहा कि महिलाएं जब तक आत्मनिर्भर नहीं बनेगी तब तक भारत विश्व गुरु नहीं बन सकता। कार्यक्रम का संचालन संयोजक डॉ जाह्नवी श्रीवास्तव ने किया। समारोह में कुलगीत डॉ. अनामिका ने प्रस्तुत किया।समारोह में कुलसचिव सुजीत कुमार जायसवाल, प्रो. मानस पांडेय, प्रो. अजय प्रताप सिंह, प्रो. देवराज सिंह, राष्टीय सेवा योजना समन्वयक श्री राकेश कुमार यादव, डॉ. जगदेव, डॉ सुनील कुमार, डॉ. नितेश जायसवाल, डॉ. चंदन सिंह, डॉ झासी मिश्रा, डॉ प्रियंका सिंह, डॉ वनिता सिंह, सुश्री जया शुक्ला, जगदीश मौर्य आदि ने प्रतिभाग किया।