Friday, 12 January 2018

सच्चा युवक वही जो चुनौतियों का सामना करे- योगी

जौनपुर। वीर बहादुर सिंह पूर्वान्चल विश्वविद्यालय, जौनपुर में स्वामी विवेकानन्द जयन्ती के अवसर पर आयोजित ‘‘राष्ट्रीय युवा दिवस समारोह’’ में बतौर मुख्य अतिथि मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश  योगी आदित्य नाथ ने कहा कि युवाओं के सामने कई चुनौतियां है सच्चा युवक वही है जो पलायन करने के बजाए चुनौतियों को स्वीकार करे।  उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय में डिग्री बांटने का केंद्र न बने बल्कि वह नौजवानों के हितों को ध्यान में रखते हुए विकास में योगदान दे। उन्होंने कहा कि सरकार की  वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट योजना का मकसद क्षेत्रीय उत्पादों को बढ़ावा देना है हमें क्षेत्र विशेष के परम्परागत उत्पादों को मंच देना होगा तब जाकर क्षेत्र का विकास होगा।
     उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री कौशल विकास योजनाओं का लाभ प्रदेश के चार  लाख लोग पा चुके हैं। विश्वविद्यालय इसमें अपना योगदान सुनिश्चित करें।
      उन्होंने कहा कि विद्यार्थी स्वस्थ प्रतिस्पर्धा के लिए और विश्वविद्यालय नकल विहीन परीक्षा के लिए अपने को तैयार रखें ।यही स्वामी विवेकानंद के प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी।
             उन्होंने कहा कि स्वर्गीय रज्जू भैया अशोक सिंघल और महंत अवैद्यनाथ नाथ के नाम पर बने संस्थान को सरकार हर मदद करने देने के लिए तैयार है उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर राजाराम यादव को जो कार्य योजना का प्रारूप सौंपा है वह उसे प्रदेश के उच्च शिक्षा विभाग में  प्रेषित करें।सरकार उसे अगले सत्र से शुरू करने में मदद करेगी।
स्वागत भाषण में  कुलपति प्रो0 डाॅ0 राजाराम यादव ने कहा कि मैं बहुत ही सौभाग्यशाली हॅंू कि मुझे गृह जनपद में स्वामी मंशानाथ जी ने आशीर्वाद दिया था आज उनके विश्वविद्यालय में महंत योगी आदित्यनाथ जी आए हैं। मैं विश्वविद्यालय परिवार के ओर से उनका वंदन और अभिनंदन करता हॅंू। उन्होंने विश्वविद्यालय की उपलब्धियां गिनाते हुए कहा कि देश में पोस्ट डाक्ट्रेट फेलोशिप देने वाला यह पहला विश्वविद्यालय है। साथ ही समय से परीक्षा कराने और उसके परिणाम घोषित करने वाले अग्रणी विश्वविद्यालय में यह एक है। साथ ही यह बताया कि शोध प्रबंध गंगा के पोर्टल पर डालने वाला यह देश के तीसरे नंबर का विश्वविद्यालय बन गया है। प्लेसमेंट सेल ने 30 विद्यार्थियों का कैम्पस सेलेक्शन कराया और विश्वविद्यालय अनुदान आयोग के सहयोग से आई0ए0एस0 और पी0सी0एस0 की कोचिंग भी शुरू करने जा रहा है। उन्होंने मा0 मुख्यमंत्री से विश्वविद्यालय  परिसर में प्रारम्भ हो रहे नवीन पाठ्यक्रमों एवं संस्थानों के लिए वार्षिक वेतन के रूप में 11 करोड़ एंव भवन निर्माण के मद में 18 करोड़ रूपये की मांग की। उन्होंने अपने सम्बोधन में विश्वविद्यालय के विविध पक्षों की उत्तरोत्तर प्रगति की आख्या प्रस्तुत की।
इसके पूर्व राष्ट्रीय सेवा योजना के समन्वयक डाॅ0 राकेश यादव, ने राष्ट्रीय सेवा योजना के कार्यक्रम की प्रगति आख्या प्रस्तुत की।
धन्यवाद ज्ञापन प्रो0 बी0 बी0 तिवारी एवं संचालन मीडिया प्रभारी डाॅ0 मनोज मिश्र ने किया। इस अवसर पर सांसद के0पी0 सिंह, राज्यमंत्री गिरीश चन्द्र यादव, , काशी क्षेत्र के भाजपा के संगठन मंत्री रत्नाकर जी, विधायकगण रमेश मिश्र, दिनेश चैधरी, श्रीमती लीना तिवारी यूथ इन एक्शन के राष्ट्रीय संयोजक शतरूद्र प्रताप सिंह, पूर्व विधायक श्रीमती सीमा द्विवेदी, प्रमुख सचिव अवनीश अवस्थी, जनसंत योगी देवनाथ, जिला अध्यक्ष सुशील कुमार उपाध्याय, अवध प्रांत के उपाध्यक्ष अमर सिंह, मंचासीन रहे। इसके अतिरिक्त मंच पर कार्यपरिषद सदस्य प्रो0 विलास ए0 तभाने, प्रो0 मानस पाण्डेय, प्रो. अजय द्विवेदी, अशोक सिंह, रजनीश सिंह आदि उपस्थित थे।
झलकियां

महात्मागांधी एवं वीर बहादुर सिंह की प्रतिमा पर अर्पित की पुष्पांजलि
हेलीपैड पर आगमन के बाद मुख्यमंत्री ने सर्वप्रथम महात्मागांधी एवं वीर बहादुर सिंह की प्रतिमा पर पुष्पांजलि दी।
राज्यपाल की पुस्तक मुख्यमंत्री को दी
जौनपुर। राष्ट्रीय युवा दिवस समारोह में मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ एवं मंचस्थ अतिथियों को उत्तर प्रदेश के राज्यपाल रामनाईक द्वारा लिखित पुस्तक चरैवेति-चरैवेति को मानद पुस्तकालयाध्यक्ष प्रो. मानस पाण्डेय एवं विद्युत मल्ल द्वारा भेंट किया गया।

मुख्यमंत्री ने भवनों का किया शिलान्यास
जौनपुर। वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय, जौनपुर के संगोष्ठी भवन परिसर में प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ के साथ कुलपति प्रो. राजाराम यादव ने प्रो0 राजेन्द्र सिंह (रज्जू भइया) भौतिकीय विज्ञान अध्ययन एवं शोध संस्थान भवन एवं अशोक सिंहल भारतीय परंपरागत विज्ञान एवं तकनीकी संस्थान भवन का शिलान्यास किया। इसके साथ ही संगोष्ठी भवन का नामकरण पूज्य महंत अवैद्यनाथ के नाम पर हुआ। इस अवसर पर विश्वविद्यालय के कुलसचिव संजीव कुमार सिंह एवं वित्त अधिकारी एम0के0 सिंह बुके देकर स्वागत किया। इस अवसर पर प्रो0 ए0के0 श्रीवास्तव, प्रो0 अविनाश पाथर्डिकर, डाॅ. अवध विहारी सिंह डाॅ. दिग्विजय सिंह राठौर, डाॅ0 के0एस0 तोमर उपस्थित रहे।

उल्लेखनीय योगदान के लिए हुए सम्मानित
जौनपुर। वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय, जौनपुर के प्रो. बी.बी. तिवारी, समन्वयक टेकिप एवं प्लेसमेण्ट सेल की निदेशक प्रो. डाॅ. रंजना प्रकाश को विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों को प्लेसमेण्ट प्रदान करने में उल्लेखनीय योगदान के लिए प्रशस्ति-पत्र प्रदान कर सम्मानित किया जाता है। इसके साथ हीं प्रख्यात युवा शास्त्रीय गायक सत्य प्रकाश मिश्र को शास्त्रीय गायन में एवं  प्रख्यात युवा कथक नर्तक रवि सिंह को कथक नर्तन के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान के लिए प्रशस्ति पत्र दिया गया। विश्वविद्यालय के बी0टेक0 विद्यार्थी रहे शीलनिधि सिंह एवं विश्वविद्यालय की एम0ए0 बी0एड0 की छात्रा कु0 पूजा मिश्र को समाज सेवा के लिए पूर्णकालिक समय देने के लिए मुख्यमंत्री ने प्रमाण-पत्र प्रदान कर आशीर्वाद दिया।

हेलिपैड पर कुलपति ने किया स्वागत
जौनपुर। राष्ट्रीय युवा दिवस समारोह में मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ पूर्वांचल विश्वविद्यालय के एकलव्य स्टेडियम में हेलिकाप्टर से पहुंचे। स्टेडियम में कुलपति प्रो. डाॅ. राजाराम यादव, सांसद के0पी0 ंिसंह, विधायक दिनेश चैधरी, रमेश मिश्र, लीना तिवारी पूर्व विधायक सुरेन्द्र सिंह, सीमा द्विवेदी, एन.एस.एस. समन्वयक राकेश यादव, डाॅ. के.एस. तोमर, डाॅ0 दिग्विजय सिंह राठौर, डाॅ. अजय सिंह  समेत जिले के आला अफसरों ने मुख्यमंत्री का स्वागत किया। 


एन.एस.एस. के स्वयं सेवक-सेविकाओं ने प्रस्तुत किया सांस्कृतिक कार्यक्रम 
जौनपुर। मुख्यमंत्री जी के मंच पर आगमन के पूर्व एन.एस.एस. के आजमगढ़, मऊ, गाजीपुर एवं जौनपुर के विभिन्न महाविद्यालयों से आये हुए स्वयं सेवक सेविकाओं ने प्रस्तुत किया सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया। इसके साथ ही आकर्षक रंगोली भी मैदान में बनाया गया। 

शहीद की पत्नी को दिया 5 लाख का चेक
विगत माह लुटेरों की गोली से शहीद हुए मादरडीह मुंगराबादशाहपुर निवासी स्व0 विनय त्रिपाठी जी की धर्मपत्नी श्रीमती पूनम त्रिपाठी को  उ0प्र0 सरकार की तरफ से रू0 5 लाख का चेक मुख्यमंत्री द्वारा दिया गया। पूर्व विधायक सीमा द्विवेदी ने बताया कि इसके द्वारा उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से निवेदन किया था। उन्होंने पीड़ित परिवार एवं जनपदवासियों की भावना का सम्मान एवं शहीद की शहादत को नमन करते हुए यह अनुग्रह राशि दी है।














Wednesday, 10 January 2018

चरैवेति चरैवेति पुस्तक को कार्य परिषद के सदस्यों को भेंट

वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर राजा राम यादव ने बुधवार को कुलपति सभागार में उत्तर प्रदेश के राज्यपाल एवं कुलाधिपति राम नाईक द्वारा लिखी चरैवेति चरैवेति पुस्तक को  कार्य परिषद के सदस्यों को भेंट की। विश्वविद्यालय के 30 वर्ष पूर्ण होने पर राज्यपाल राम नाईक द्वारा लिखित पुस्तक चरैवेति चरैवेति की  तीन हज़ार प्रतियां वितरित की जाएगी। जिसका शुभारंभ बुधवार को हुआ। इसके साथ ही महाविद्यालयों द्वारा इस पुस्तक की दस हजार प्रतिया  शिक्षकों, विद्यार्थियों एवं कर्मचारियों को दी जाएगी।
वितरण समारोह के शुभारंभ अवसर पर कुलपति प्रोफेसर राजाराम यादव ने कहा कि प्रदेश के राज्यपाल व हमारे कुलाधिपति राम नाईक  ने इस पुस्तक में अपने अनुभवों व प्रेरणादायी बातें  लिखी है जिससे विद्यार्थी सीख लेकर सफलता प्राप्त करें ।इसके लिए विश्वविद्यालय पुस्तकों को उपलब्ध करा रहा हैं।
      मानद पुस्कालय अध्यक्ष डॉ  मानस पांडेय ने पुस्तक के विभिन्न आयामों  पर अपनी बात रखी। इस अवसर पर वित्त अधिकारी एम के सिंह कुलसचिव सजीव सिंह ,प्रो. बी.बी तिवारी, डॉ. विलास ए तभाने, डॉ बद्रीनाथ, डॉ रामनारायण, डॉ. वन्दना राय, डॉ अविनाश पाथर्डीकर,डॉ ,मनोज मिश्रा डॉ दिग्विजय सिंह राठौर , डॉ के एस तोमर समेत तमाम लोगों पर मौजूद रहे।

Tuesday, 9 January 2018

समाज उत्थान से ही देश बनेगा विश्व गुरु - मिथिलेश नारायण

पीयू में स्वामी विवेकानंद पर आयोजित हुई संगोष्ठी  

जौनपुर। वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय के संगोष्ठी भवन  में मंगलवार को प्रखर देशभक्त हिंदू धर्म दर्शन के संवाहक - स्वामी विवेकानंद विषयक संगोष्ठी का आयोजन किया गया. प्रज्ञा प्रवाह के वैचारिक संगठन उन्मेष के संयुक्त तत्वावधान  में  आयोजित संगोष्ठी में बतौर मुख्य अतिथि  राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पूर्वी उत्तर प्रदेश के बौद्धिक शिक्षण प्रमुख मिथिलेश नारायण ने कहा कि विश्व के कई देशों का अस्तित्व मिट गया हिंदुस्तान का अस्तित्व  इसलिए है  कि उसकी आत्मा में धर्म है।  धर्म हमें मरने नहीं देता है।  वह हमें सक्रिय करता है।  उन्होंने कहा कि धर्म का मतलब पूजा नहीं है। पूजा तो एकाग्रता का माध्यम है। स्वामी जी ने  कहा था कि अगर मुझे  सौ युवा मिल जाए तो मैं भारत का भाग्य बदल दूंगा।  शिकागो  सम्मेलन में उन्होंने मेरे प्यारे अमेरिकी भाइयों और बहनों का संबोधन किया।   उन्होंने कहा कि आप विश्व को बाजार मानते हो हम परिवार मानते हैं। धर्म को परिभाषित करते हुए कहा कि हमारे यहां जो  नियम है- वही धर्म है।  उन्होंने कहा कि भारत का उदय एक व्यक्ति और सरकार से  नहीं सभी भारत वासियों के सहयोग से हो सकता है।  उन्होंने कहा कि समाज का  उत्थान देश की प्राणवायु  है।  भारत इसी के बल पर  विश्व गुरु बन सकता है। 
विषय प्रवर्तन  करते हुए पूर्व  प्राचार्य डॉ राधेश्याम सिंह ने कहा कि देश को समृद्ध बनाने में देश की जनता की सामूहिक शक्ति का उन्मेष स्वामी विवेकानंद ने किया। उन्होंने गांधी जी, नेहरु जी एवं  सुभाष चंद्र बोस के मन में क्रांति के बीज अपने विचारों से बोये।  उन्होंने कहा की विवेकानंद जी ने भारत की संस्कृति को दुनिया तक पहुंचाने का कार्य किया है। 
 अपने अध्यक्षीय संबोधन में विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर डॉ राजाराम यादव ने कहा कि विश्वविद्यालय सृजन का स्थान है हमें युवाओं पर विश्वास करके उनको उस  लायक बनाने की जरूरत है। उन्होंने स्वामी परमहंस के शिष्य गिरीश चंद्र घोष का उद्धरण सुनाते हुए कहा कि जिस दिन हम विद्यार्थी और युवा पीढ़ी की समस्याओं को गंभीरता से लेने लगेंगे उस दिन हम भी विवेकानंद जैसे युवा पैदा करने लगेंगे।  उन्होंने ने कहा कि दुनिया में बहुत क्रांति हुई है लेकिन भारत ऐसा देश है जहां संक्रांति हुई है।   स्वामी विवेकानंद जी का जीवन है जीवन ही संक्रांति है। 
 अतिथियों का स्वागत प्रोफेसर बीबी  तिवारी ने किया कार्यक्रम में टीडी कॉलेज के डॉ आर  एन ओझा  की पुस्तक स्फुट विचार का विमोचन किया गया। कार्यक्रम का संचालन  डॉक्टर अजय द्विवेदी ने किया।  मंचासीन अतिथियों  का परिचय डॉक्टर राजकुमार सोनी ने एवं  धन्यवाद ज्ञापन डॉ एके श्रीवास्तव ने दिया।   इस अवसर पर सुरेंद्र प्रताप सिंह ,   संतोष त्रिपाठी,डॉक्टर बी डी शर्मा, नीरज सिंह, डॉ मनोज मिश्र, डॉ संतोष कुमार, दिग्विजय सिंह राठौर, डॉक्टर सुनील कुमार, डॉक्टर अमरेंद्र सिंह, डॉ अरुण कुमार सिंह, डॉक्टर विनोद सिंह, डॉक्टर सूर्य प्रकाश सिंह, डॉक्टर अवनीश कुमार सिंह, इंद्रेश कुमार सहित विद्यार्थी  प्रमुख रूप उपस्थित  रहे। 

Thursday, 4 January 2018

पूर्वांचल विश्वविद्यालय में कैंपस सलेक्शन में 22 विद्यार्थी चयनित हुए छात्र




जौनपुर।   वीर बहादुर सिंह  पूर्वांचल विश्वविद्यालय के ट्रेनिंग एंड प्लेसमेंट सेल के तत्वावधान में 4 जनवरी को  दो दिवसीय तकनीकी प्रशिक्षण का  आयोजन किया गया। इस  तकनीकी प्रशिक्षण में इंजीनियरिंग संस्थान के 261 विद्यार्थियों  ने प्रतिभाग कर तकनीकी कौशल ,ऑटो मिशन ,सी प्लस -प्लस ,डेटाबेस मैनेजमेंट ,ग्राफिक डिजाइन,मैटलैब एवं एन्सिस  का प्रशिक्षण प्राप्त किया  । साफकॉर्न इंडिया से आये हुए 8 विषय विशेषज्ञ एवं स्रोत  विद्वानों ने  विद्यार्थियों को कम्यूटर पर प्रैक्टिकल ट्रेनिंग दी। इस अवसर पर ट्रेनिंग एवं प्लेसमेंट सेल की निदेशक प्रोफ़ेसर रंजना प्रकाश  ने कहा कि इस प्रशिक्षण से सभी को रोजगार प्राप्ति के अनेक अवसर   प्राप्त  होंगे। उद्योग जगत की आवश्यकता को  ध्यान में रखते हुए विश्वविद्यालय का प्लेसमेंट  सेल इस तरह के प्रशिक्षण शिविर समय समय पर आयोजित करता रहेगा। 
इस अवसर पर साफकार्न के सौरभ सिंह ,मुस्तकीम अहमद ,बेला दूबे ,सूरज पांडेय ,प्रोफ़ेसर एके श्रीवास्तव ,डॉ मनोज मिश्र सहित विद्यार्थी उपस्थित रहे। 



पूर्वांचल विश्वविद्यालय में कैंपस सलेक्शन में 22 विद्यार्थी चयनित हुए छात्र 

विश्वविद्यालय के ट्रेनिंग एवं प्लेसमेंट सेल द्वारा बुधवार को उमा नाथ सिंह इंजीनियरिंग संस्थान में ३ जनवरी को कैंपस सलेक्शन का आयोजन किया गया। जिसमें इंजीनियरिंग के 22 विद्यार्थियों का चयन हुआ।

कैंपस सलेक्शन में प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए कुलपति प्रोफेसर डॉ राजाराम यादव ने कहा कि चयन के समय आप अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करें। किसी भी प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए उत्साह सबसे महत्वपूर्ण होता है। कुलपति ने कैंपस सलेक्शन के लिए चंडीगढ़ से आये टैलेंट पूल कंपनी के रमेश भारद्वाज, केएस भाटी व दीपक शर्मा  से विस्तारपूर्वक बातचीत  की। कंपनी के प्रतिनिधियों ने अपनी आवश्यकताओं एवं मार्केट की मांग के बारे में बताया।

समन्वयक प्रोफेसर रंजना प्रकाश ने कहा कि प्लेसमेंट सेल द्वारा विद्यार्थियों को रोजगार उपलब्ध कराने के लिए निरंतर प्रयास किया जा रहा है आगे भी कंपनियों को कैंपस सलेक्शन के लिए आमंत्रित किया जाएगा। कैंपस सलेक्शन में बीटेक अंतिम वर्ष के 182 विद्यार्थियों ने प्रतिभाग किया। टैलेंट पूल कंपनी द्वारा चयन हेतु लिखित परीक्षा के माध्यम से 40 विद्यार्थियों का मेरिट के आधार पर प्रथम चरण में स्क्रीनिंग की गई जिसके पश्चात समूह परिचर्चा, तकनीकी ज्ञान एवं व्यक्तिगत साक्षात्कार लिया गया। अंतिम चरण में  22 विद्यार्थी चयनित हुए।

इस अवसर पर प्रो बीबी तिवारी, डॉ ए के श्रीवास्तव, डॉ राजकुमार सोनी, डॉ संतोष कुमार, डॉ दिग्विजय सिंह राठौर, डॉ अमरेंद्र सिंह, डॉ प्रवीण सिंह, शैलेश प्रजापति, श्याम त्रिपाठी आदि मौजूद रहे।