Monday, 19 November 2018

सृजन 4 में पीयू के विद्यार्थियों ने मारी बाजी


 राजर्षि  स्कूल ऑफ मैनेजमेंट एंड टेक्नोलॉजी उदय प्रताप कॉलेज वाराणसी में आयोजित अन्तर महाविद्यालयीय प्रतियोगिता  सृजन  4 में   वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय के एमबीए फाइनेंस एंड कण्ट्रोल  एवं एमबीए बिज़नेस इकोनॉमिक्स के विद्यार्थियों ने प्रथम स्थान प्राप्त किया। इस प्रतियोगिता में  सलोनी सिंह, सुप्रिया श्रीवास्तव, प्रिंसी सिंह एवं  प्रबल कपूर की टीम को प्रथम स्थान पाने पर कुलपति प्रो डॉ राजाराम यादव ने प्रमाण पत्र सौपकर बधाई दी। प्रतिभागियों ने कुलपति को जीती हुई ट्राफी सौपीं।इस प्रतियोगिता का मुख्य उद्देश्य  छात्रों  में सृजनात्मक क्षमता  की पहचान करना था  । इसके साथ ही  विज्ञापन एवं  प्रोडक्ट को बेचने  संबंधित प्रतियोगिता में प्रश्न पूछे गए। अंतिम राउंड में इनको प्रोडक्ट दिया गया जिसपर  एक तत्काल विज्ञापन बना करके पेश करना था। विद्यार्थियों ने अपनी सृजन क्षमता से पहला स्थान प्राप्त किया। प्रतियोगिता में 28 टीमों ने प्रतिभाग किया।  इस प्रतियोगिता में अच्युत गुप्ता, अमन अग्रवाल एवं सरिल  कांत त्रिपाठी ने भी प्रतिभाग किया। 

Saturday, 17 November 2018

शोध पत्र लेखन एवं प्रकाशन विषयक कार्यशाला का हुआ आयोजन

साहित्यिक चोरी से बचें लेखक - डॉ गौरव 



 वीर बहादुर सिंह पूविवि में शनिवार  को फार्मेसी संस्थान के रिसर्च एवं इनोवेशन सेंटर में  शोध पत्र लेखन एवं प्रकाशन विषयक  कार्यशाला  का आयोजन किया गया।कार्यशाला में विषय विशेषज्ञों ने शोध पत्र लेखन के विविध आयामों पर प्रकाश डाला।कार्यशाला का आयोजन विश्वविद्यालय  के विवेकानन्द केन्द्रीय पुस्तकालय एवं स्प्रिंगर नेचर  इंडिया दिल्ली के संयुक्त तत्वावधान में किया गया।

कार्यशाला में बतौर विषय विशेषज्ञ बायोमेडिसिन पत्रिका के संपादक डॉ गौरव सिंह ने कहा कि शोध पत्र लेखन में नैतिक मूल्यों का ध्यान रखते हुए लेखकों को  साहित्यिक चोरी से बचाना चाहिए। स्तरीय पत्रिकाओं में शोध पत्र प्रकाशन होने से लेखकों की वैश्विक छवि बनती है। उन्होंने कार्यशाला में शोधपत्र लेखन की सम्पूर्ण प्रक्रिया को बताया।  

स्प्रिंगर इण्डिया के क्षेत्रीय प्रबंधक कुंज  वर्मा  ने कहा कि भारत में स्तरीय शोध पत्रिकाओं का प्रकाशन हो रहा है जिसकी  पहुंच वैश्विक है। शोध पत्रिका के  प्रकाशक सदैव  स्तरीय शोध पत्रों को वरीयता देते है। 



कार्यशाला में आये हुए  प्रतिभागियों का स्वागत मानद पुस्तकालय अध्यक्ष प्रो०  मानस पाण्डेय एवं  संचालन डा. विद्युत मल्ल ने  किया।  धन्यवाद् ज्ञापन डॉ० सचिन अग्रवाल ने किया। इस अवसर पर प्रो० वंदना राय,प्रो० अजय द्विवेदी ,प्रो० बी डी शर्मा, प्रो० राजेश शर्मा,डॉ० देवेंद्र सिंह,डॉ०  मनोज मिश्र ,डॉ० राजेंद्र प्रताप सिंह, डॉ० प्रमोद यादव,डॉ दिग्विजय सिंह राठौर ,डॉ अवध बिहारी सिंह,अन्नू त्यागी,डॉ सुनील कुमार, डॉ० जान्हवी श्रीवास्तव  सहित शिक्षक, विद्यार्धी प्रतिभाग किये।  

संस्था में सदा साबित करते रहें अपनी उपयोगिता -कुलपति


 विश्वविद्यालय के ट्रेनिंग एवं प्लेसमेंट सेल में शनिवार को कुलपति प्रोफेसर डॉक्टर राजाराम यादव ने  कैम्पस  प्लेसमेंट में चयनित विद्यार्थियों को नियुक्ति पत्र दिया। कुलपति प्रो डॉ राजाराम यादव ने विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि जिस संस्था में आप काम करने जा रहे हैं उसमें अपनी उपयोगिता को सिद्ध करते रहें।  संस्था में नवोन्मेषी कार्यकुशलता आपको औरों से अलग करती है।  उन्होंने कहा कि मेहनत के बल पर नए मुकाम हासिल किए जा सकते हैं। प्लेसमेंट सेल की निदेशक  प्रोफेसर डॉ रंजना प्रकाश ने बताया कि इस वर्ष 78 विद्यार्थियों का चयन अब तक कैम्पस  प्लेसमेंट में हुआ है।  शनिवार को जयश्री पॉलीमर, कॉसमॉस, इंस्पायर फाउंडेशन एवं इंटेक्स इंजीनियरिंग कंपनी द्वारा भेजे गए नियुक्ति पत्र को कुलपति ने विद्यार्थियों को प्रदान किया।   इस अवसर पर प्रो बीबी तिवारी , प्रो अशोक कुमार  श्रीवास्तव , प्रो मानस पांडेय , प्रो हरि  प्रकाश ,डॉ  मनोज मिश्र, डॉ संदीप सिंह, डॉ संतोष कुमार, डॉ रजनीश भास्कर , डॉ संजीव गंगवार ,डॉ दिग्विजय सिंह राठौर,श्याम त्रिपाठी  आदि मौजूद रहे। 

Thursday, 15 November 2018

रोवर्स रेंजर्स लीडर्स एवं प्रभारियों के लिए एक दिवसीय कार्यशाला का हुआ आयोजन


विद्यार्थियों में सामाजिक मूल्यों को विकसित करें - सुजीत 

विश्वविद्यालय में गुरुवार को रोवर्स रेंजर्स लीडर्स एवं प्रभारियों के लिए एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया. कार्यशाला में प्रशिक्षकों ने आजमगढ़, मऊ, जौनपुर एवं गाजीपुर जनपद के पदाधिकारियों को प्रशिक्षित किया।
रोवर्स रेंजर्स भवन में आयोजित कार्यशाला के उद्घाटन सत्र में बतौर मुख्य अतिथि कुलसचिव सुजीत कुमार जायसवाल ने कहा यह कार्यशाला रोवर्स रेंजर्स प्रभारियों को नया नजरिया देगी जिससे वह अपने विद्यार्थियों में सामाजिक मूल्यों को विकसित कर सकें।
बतौर विशिष्ट अतिथि वित्त अधिकारी एम के  सिंह ने कहा कि रोवर्स रेंजर्स से जुड़ने वाले विद्यार्थी अनुशासन व एकता के साथ ही  शारीरिक व मानसिक रूप से अन्य की तुलना में अधिक सक्षम होते हैं।
संकाय अध्यक्ष डॉ मनोज मिश्र ने कहा कि रोवर्स रेंजर्स मानव सेवा का उच्च आदर्श है इससे जुड़ने वाले विद्यार्थियों और शिक्षकों को गर्व होना चाहिए।
विषय प्रवर्तन सहायक प्रादेशिक संगठन कमिश्नर प्रदीप गुप्ता ने किया उन्होंने कहा कि रोवरिंग  की शुरुआत हुए 100 वर्ष पूरे हो गए हैं आज हमें गुणात्मक रूप से और मजबूत होने की जरूरत है।
कार्यक्रम के समन्वयक रोवर रेंजर के संयोजक डॉ जगदेव ने कहा कि पूर्वांचल विश्वविद्यालय के रोवर्स रेंजर्स प्रदेश में सबसे शीर्ष स्थान पर हैं। रोवर्स रेंजर्स को तैयार करने में हमारे लीडर्स की बड़ी भूमिका है। अगर इसी तरह सदैव हमारे लीडर्स अपने दायित्वों का निर्वहन करते रहेंगे तो विश्वविद्यालय देश की अग्रिम पंक्ति में रहेगा।कार्यक्रम की अध्यक्षता डॉक्टर मनराज यादव ने की।
प्रशिक्षण कार्यक्रम में सहायक प्रादेशिक संगठन कमिश्नर सुरेश प्रसाद तिवारी एवं प्रदीप गुप्ता ने प्रवेश,निपुण,  राज्य पुरस्कार की तैयारी, विभिन्न प्रतियोगिताओं की तैयारी, पायनियरिंग एवं कैंप फायर के विविध आयामों पर विस्तार से चर्चा की।कार्यक्रम का संचालन घनश्याम दुबे ने किया।
इस अवसर पर डॉ वीरेंद्र विक्रम यादव, डॉ मातबर मिश्र, डॉ दिग्विजय सिंह राठौर,डॉ सफिजुम्मा, डॉ प्रतिमा सिंह, डॉ राजेश यादव, डॉ मनोज तिवारी, डॉ शशि मिश्र, डॉ संजय श्रीवास्तव समेत विभिन्न जनपदों के रोवर्स रेंजर्स लीडर व प्रभारी मौजूद रहे।